0

“Mann Ki Baat” on Sunday 2nd November 2014

“Mann Ki Baat” on Sunday 2nd November 2014





 


 नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रेडियो के जरिए अपने मन की बात देशवासियों के सामने रखी. पीएम मोदी ने अपने इस संबोधन में लोगों को यह भरोसा दिलाने की कोशिश की कि देश के बाहर गया गरीबों का कालाधन वापस जरूर आएगा.
पीएम मोदी ने कहा, "जहां तक काले धन का सवाल है, आप मुझ पर भरोसा कीजिये, यह मेरे लिए आर्टिकल ऑफ़ फेथ है, मेरे देशवासियों, भारत के गरीब का पैसा जो बाहर गया वो पाई पाई वापस आएगी."
पीएम ने कहा कि विदेशों में कितना कालाधन जमा है, इसके बारे में किसी को पता नहीं है लेकिन हम पाई पाई लाने को प्रतिबद्ध हैं. प्रधानमंत्री ने कहा, "आज तक किसी को पता नहीं है, ना मुझे, ना सरकार को, ना आपको कि कितना धन देश के बाहर है. हर कोई अलग-अलग आकड़े बताते रहते हैं. मैं आंकड़ों में उलझना नहीं चाहता लेकिन यह देश के गरीबों का पैसा है वापस आना चाहिए. आपका आशीर्वाद बना रहे, आपके लिए जो भी करना पड़ेगा, जरूर करता रहूंगा."
पीएम ने कहा कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि सफाई अभियान एक आंदोलन का रूप ले लेगा. पीएम ने कहा कि लोग अब अपने स्वार्थ की बात कम, समाज के जिम्मेदारी की बात करने लगे हैं. पीएम मोदी ने कहा, "गंदगी से बीमारी सबसे पहले गरीब के घर में आती है, गरीब बीमार नहीं तो आर्थिक तंगी नहीं. सफाई रखकर हम गरीबों का भला करेंगे."
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा स्वच्छ भारत मिशन को सही तरीके से लागू किए जाने का लाभ गरीब लोगों को मिलेगा. प्रधानमंत्री ने 'मन की बात' कार्यक्रम की दूसरी कड़ी में जनता को संबोधित करते हुए कहा, "स्वच्छ भारत मिशन पर विशेष ध्यान देने का लाभ गरीबों को मिलेगा. ये अमीर नहीं बल्कि गरीब लोग हैं, जो उनके आसपास फैली गंदगी से प्रभावित होते हैं."
मोदी ने दो अक्टूबर को 'स्वच्छ भारत मिशन' की शुरुआत की थी. उन्होंने कहा कि आसपास का माहौल स्वच्छ रहता है, तो यह गरीबों की ही सेवा होगी. मोदी ने कहा, "मैं इसका बड़ा प्रभाव बच्चों पर भी देख रहा हूं. माता-पिता अब कहते हैं कि उनके बच्चे चॉकलेट के रैपर सड़क पर नहीं फेंकते."
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि खादी के उत्पादों की बिक्री करीब 125 फीसदी तक बढ़ी है. मोदी ने 'मन की बात' में कहा, "मुझे बताया गया कि खादी की बिक्री 125 फीसदी तक बढ़ी है." उन्होंने कहा, "मैंने पिछली बार लोगों से खादी के उत्पाद खरीदने का आग्रह किया था. मैंने यह कभी नहीं कहा कि खादीवादी बन जाएं, लेकिन खादी का कुछ सामान खरीदें."
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जिन लोगों की इंटरनेट और सोशल मीडिया तक पहुंच नहीं हैं, वे उन्हें विभिन्न मुद्दों पर अपने सुझावों को लेकर उन्हें चिट्ठी लिख सकते हैं. 'मन की बात' कार्यक्रम की दूसरी कड़ी में प्रधानमंत्री ने देशवासियों से कहा कि उन्हें बताया गया है कि कई लोगों के पास ई-मेल, फेसबुक, ट्विटर और अन्य सोशल नेटवर्किं ग साइट की सुविधा मौजूद नहीं है.



मोदी ने कहा, "जिन लोगों के पास 'मन की बात' कार्यक्रम के संबंध में कोई सुझाव है और मुझे अवगत कराना चाहते हैं, वे मन की बात, आकाशवाणी, संसद मार्ग, नई दिल्ली के पते पर मुझे चिट्ठी लिख सकते हैं. चिट्ठी मुझ तक पहुंच जाएगी."



उन्होंने कहा, "इन सभी चिट्ठियों पर गंभीरता से विचार किया जाएगा, क्योंकि चिट्ठी यह साबित करती है कि लोग देश से जुड़े मुद्दों को लेकर सजग हैं."

After the radio programme on 3rd October 2014 the Prime Minister will once again interact with the people across India on Radio! The Prime Minister will share thoughts on various issues on the Radio on the morning of Sunday 2nd November 2014.

ટિપ્પણી પોસ્ટ કરો

 
Top