151-अपने भीतर हुए इस परिवर्तन-पहले भगवान को धन्यवाद
एक नास्तिक की भक्ति हरिराम नामक आदमी शहर के एक छोटी सी गली में रहता था। वह एक मेडिकल दुकान का मालिक था। सारी दवाइयों की उसे अच्छी जानकारी थी, दस साल का अनुभव होने के कारण उसे अच्छी तरह पता था कि कौन सी दवाई कहाँ रखी है।

READ MORE अपने भीतर हुए इस परिवर्तन-पहले भगवान को धन्यवाद

 
Top